[ Ayadi Sandhi ] अयादि संधि किसे कहते है ? परिभाषा व नियम तथा उदाहरण

[ Ayadi Sandhi ] अयादि संधि किसे कहते है ? परिभाषा व  नियम तथा उदाहरण
[ Ayadi Sandhi ] अयादि संधि किसे कहते है ? परिभाषा व  नियम तथा उदाहरण

 हेलो दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम लोग हिंदी व्याकरण के संधि टॉपिक से अयादि संधि के बारे में जानेंगे । आज हम इस आर्टिकल में अयादि संधि की परिभाषा व उदहारण देखने वाले है । अयादि संधि के बारे इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें । तो चलिए शुरू करते है ।

अयादि संधि किसे कहते है ? परिभाषा 


परिभाषा :- यदि 'ए' या 'ऐ' 'ओ' या 'औ' के बाद कोई भिन्न स्वर आए तो 'ए' का 'अय्', ऐ का 'आय' हो जाता है तथा ओ का अव और औ का आव हो जाता है , उसे अयादि संधि कहते है ।

कुछ उदाहरण :- 

  •            ने  + अन = नयन ( ए + अ )
  •           नौ + इक = नाविक ( औ + इ)
  •           भो + अन = भवन (ओ + अ )
  •            पो + इत्र = पवित्र ( ओ + इ )

नियम :-  अयादि संधि में जब हम संधि करते है तब उस समय ए , ऐ , ओ , औ के साथ कोई अन्य कोई भी स्वर हो तो (ए का अय), (ऐ का आय), (ओ का अव), (औ – आव) बन जाता है ।

अयादि संधि के उदाहरण व नियम 

ए + अ = अय


अयादि संधि के इस नियमानुसार जब किसी शब्द का संधि विच्छेद करने पर पूर्व पद में ए व उत्तर पद में अ आये तो उनके स्थान पर अय हो जाता है । उदहारण के तौर पर हम नयन शब्द को लेते है । इस शब्द का संधि विच्छेद करने पर ने + अन होता है और इस उदहारण में ने का विच्छेद करने पर न + ए होता है और अन में अय मिल जाता है इसलिए इसका नयन बनता है ।

ऐ + अ = आय


अयादि संधि के इस नियमानुसार जब किसी शब्द का संधि विच्छेद करने पर पूर्व पद में ऐ व उत्तर पद में अ आये तो उनके स्थान पर आय हो जाता है । उदहारण के तौर पर हम गायक शब्द को लेते है । इस शब्द का संधि विच्छेद करने पर गै + अक होता है और इस उदहारण में गै का विच्छेद करने पर ग + अ होता है और अक में आय मिल जाता है इसलिए इसका गायक शब्द बनता है 

ओ + अ = अव


अयादि संधि के इस नियमानुसार जब किसी शब्द का संधि विच्छेद करने पर पूर्व पद में ओ व उत्तर पद में अ आये तो उनके स्थान पर अव हो जाता है । उदहारण के तौर पर हम भवन शब्द को लेते है । इस शब्द का संधि विच्छेद करने पर भो + अन होता है और इस उदहारण में भो का विच्छेद करने पर भ + ओ होता है और अन में अव मिल जाता है इसलिए इसका भवन शब्द बनता है ।

औ + अ = आव


अयादि संधि के इस नियमानुसार जब किसी शब्द का संधि विच्छेद करने पर पूर्व पद में ओ व उत्तर पद में अ आये तो उनके स्थान पर आव हो जाता है । उदहारण के तौर पर हम पावन शब्द को लेते है । इस शब्द का संधि विच्छेद करने पर पौ + अन होता है और इस उदहारण में पौ का विच्छेद करने पर प + औ होता है और अन में आव मिल जाता है इसलिए इसका पावन शब्द बनता है ।

औ + उ = आवु


अयादि संधि के इस नियमानुसार जब किसी शब्द का संधि विच्छेद करने पर पूर्व पद में औ व उत्तर पद में उ आये तो उनके स्थान पर आव हो जाता है । उदहारण के तौर पर हम भावुक शब्द को लेते है । इस शब्द का संधि विच्छेद करने पर भौ + उक होता है और इस उदहारण में भौ का विच्छेद करने पर भ + औ होता है और उक में आवु मिल जाता है इसलिए इसका भावुक शब्द बनता है ।

अंतिम शब्द 


आज हमने इस आर्टिकल में अयादि संधि किसे कहते है ? परिभाषा व अयादि संधि के नियम व उदाहरण इन सभी के बारे में विस्तार से व सरल भाषा मे समझने का प्रयास किया है । यदि आपको यह लेख पसंद आया है और इस आर्टिकल से कुछ सीखने को मिला हो तो इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ जरूर साझा करें । 

और यदि आपको लगता है कि इस आर्टिकल में कोई कमी महसूस होती है तो नीचे हमे comment box में जरूर अवगत कराएं । ताकि हम आपकी जरूर के अनुसार आर्टिकल को बना सके , आपके सुझाव हमेशा आमंत्रित है ।

धन्यवाद !

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ