विशेषण किसे कहते हैं ? परिभाषा, भेद, उदाहरण, शब्द लिस्ट 2021

विशेषण किसे कहते हैं ? परिभाषा, भेद, उदाहरण, शब्द लिस्ट 

हैल्लो दोस्तो, विशेषण हिंदी भाषा का बहुत की महत्वपूर्ण टॉपिक है और आज हम इस लेख में विशेषण किसे कहते हैं ? परिभाषा, भेद, उदाहरण, शब्द लिस्ट इन सभी टॉपिक के बारे में विस्तर से जानेंगे । तो चलिए विशेषण की परिभाषा से शुरू करते है ।

विशेषण किसे कहते हैं ? विशेषण की परिभाषा 


" संज्ञा व सर्वनाम की विशेषता बताने वाले हैं शब्दों को विशेषण कहा जाता है । "  विशेषण के प्रयोग से व्यक्ति वह वस्तु का यथार्थ स्वरूप प्रकट किया जाता है और साथ ही साथ में इसका उपयोग भाषा  को अधिक प्रभावशाली बनाने के लिए विशेषण का प्रयोग हिंदी भाषा में किया जाता है ।

विशेष्य किसे कहते हैं ? विशेष्य की परिभाषा 


विशेषण जिस शब्द की विशेषता बताता है उसे विशेष्य कहा जाता है । उदाहरण के लिए :-  नीला आकाश । इस  वाक्य में नीला शब्द विशेषण है जो  आकाश शब्द की विशेषता बता रहा है अतः आकाश नीला विशेषण का विशेष्य होगा ।

विशेषण व विशेष्य में अन्तर


विशेषण व विशेष्य में एक मुख्य अंतर यह होता है की विशेषण संज्ञा व सर्वनाम की विशेषता बताता है , जबकि विशेष्य, विशेषण जिस शब्द की विशेषता बताता है उसे विशेष्य कहा जाता है ।  आसान शब्दों में संज्ञा शब्द और सर्वनाम शब्द को ही विशेष से कहा जाता है ।

विशेषण के भेद या विशेषण के प्रकार 


विशेषण को पांच भागों में बाटा गया है जो निम्नानुसार हैं :- गुणवाचक विशेषण,  परिणाम वाचक विशेषण, संख्यावाचक विशेषण, संकेतवाचक विशेषण, व्यक्तिवाचक विशेषण । ये सभी विशेषण के भेद या विशेषण के प्रकार है ।
विशेषण के भेद या प्रकार
विशेषण के भेद या प्रकार
  1. गुणवाचक विशेषण 
  2. परिणामवाचक विशेषण
  3. संख्यावाचक विशेषण
  4. संकेतवाचक विशेषण
  5. व्यक्तिवाचक विशेषण

1.गुणवाचक विशेषण की परिभाषा व उदाहरण


परिभाषा :- ऐसे शब्द जो किसी संज्ञा या सर्वनाम के गुण, दोष, रूप, रंग, आकार, स्वभाव अथवा दशा का बोध कराते हैं, उन्हें गुणवाचक विशेषण कहते हैं ।

उदाहरण :- 
  •           पुराना 
  •                  काला कुत्ता 
  •                  मिटा आम 


2.परिणामवाचक विशेषण की परिभाषा, भेद व उदाहरण 


परिभाषा :- ऐसे शब्द जो किसी वस्तु पदार्थ या जगह की मात्रा तोलिया माफ का बोध कराते हैं वह परिणाम वाचक विशेषण कहलाते हैं । परिणाम वाचक विशेषण के दो भेद किए गए हैं पहला निश्चित परिणाम वाचक विशेषण व दूसरा अनिश्चित परिणाम वाचक विशेषण ।

भेद या प्रकार :- परिणाम वाचक विशेषण के दो भेद किए गए हैं पहला निश्चित परिणाम वाचक विशेषण व दूसरा अनिश्चित परिणाम वाचक विशेषण ।

उदाहरण :- 
  •                   2 लीटर दूध ।
  •                  काला कुत्ता ।
  •                  मिटा आम ।

【अ】निश्चित परिणाम वाचक विशेषण 

निश्चित परिणाम वाचक विशेषण में किसी वस्तु पदार्थ या जगह की मात्रा तोल या मात्रा निश्चित होता है उदाहरण के तौर पर 4 लीटर 7 किलो, 200 मीटर आदि हो सकते हैं इनमें लीटर, किलो , मीटर तीनों की मात्रा निश्चित है अतः इसमें निश्चित परिणाम वाचक विशेषण हैं ।

उदाहरण :- 
                 
  •                 2 लीटर दूध ।
  •                थोड़ा - थोड़ा दूध देना ।
  •                ज्यादा - सेव ज्यादा लाना ।

【ब 】अनिश्चित परिणाम वाचक विशेषण 

अनिश्चित परिणाम वाचक विशेषण में किसी भी वस्तु, पदार्थ या जगह की मात्रा तोल या माप का निश्चित बोध नहीं हो पाता है इस कारण इस उपभेद को अनिश्चित परिणाम वाचक विशेषण जाता है । 

उदाहरण :- 
                थोड़ा - थोड़ा दूध देना ।
                बहुत - आज बहुत कम छात्र है ।
                ज्यादा - सेव ज्यादा लाना ।

3.संख्यावाचक विशेषण की परिभाषा, भेद व उदाहरण


परिभाषा :- ऐसे शब्द जो जो किसी संज्ञा या सर्वनाम की निश्चित या निश्चित संख्या गणना या क्रम का बोध कराते हैं वे संख्यावाचक विशेषण कहलाते हैं । 

संख्यावाचक विशेषण दो प्रकार के होते हैं पहला निश्चित संख्यावाचक विशेषण और दूसरा अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण ।

भेद :- संख्यावाचक विशेषण दो प्रकार के होते हैं जो निम्नलिखित है -
  1.                  निश्चित संख्यावाचक विशेषण
  2.                  अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण


1.निश्चित संख्यावाचक विशेषण की परिभाषा व उदाहरण :- 


निश्चित संख्यावाची विशेषण किसी संज्ञा सर्वनाम की निश्चित संख्या गणनायकम का बोध कराते हैं इस कारण इन्हें निश्चित संख्यावाचक विशेषण कहते हैं । आसान शब्दों में यह निश्चित संख्या,मात्रा या  गणना का बोध कराते हैं । इस निश्चित संख्यावाचक विशेषण में निश्चित संख्या वाले शब्द होते है ।

जैसे :- एक, दो,तीन,चार,पाँच....... इस प्रकार इसमें निश्चित संख्या वाले शब्द होते है ।

2.अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण की परिभाषा व उदाहरण :- 


अनिश्चित संख्यावाची विशेषण किसी संज्ञा या सर्वनाम की अनिश्चित संख्या गणना या क्रम का बोध कराते हैं इस कारण इन्हें अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण कहते हैं ।

सरल शब्दों में यह अनिश्चित संख्या,मात्रा या  गणना का बोध कराते हैं । यानी इस विशेषण ने संज्ञा व सर्वनाम की संख्या व मात्रा निश्चित नही होती है । अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण में अनिश्चित संख्या वाले शब्द आते है ।

जैसे अनिश्चत संख्यावाचक विशेषण शब्द :- सब , कई, कुछ, बहुत इत्यादि । इस तरह के शब्द निश्चत बोध नही करते है । इस कारण ऐसे शब्द अनिश्चत संख्यावाचक विशेषण शब्द होते है ।

4.संकेतवाचक विशेषण की परिभाषा व उदाहरण 

परिभाषा :- ऐसे शब्द जो वास्तव में सर्वनाम होते हैं लेकिन वाक्य में विशेषण की तरह प्रयुक्त हो रहे हैं अथार्त संज्ञा की विशेषता प्रकट कर रहे होते हैं वह संकेतवाचक विशेषण कहलाते हैं ।

संकेतवाचक विशेषण को सर्वनामिक विशेषण भी कहा  जाता है क्योंकि यह मूल रूप से यह सर्वनाम ही होते हैं इस कारण इनको संकेतवाचक विशेषण व सर्वनामिक विशेषण भी बोला जाता है ।

उदाहरण :- 
  •                 कोई महात्मा आये है ।
  •                  उस पुस्तक को पढ़ो ।

5.व्यक्तिवाचक विशेषण की परिभाषा व उदाहरण 


परिभाषा :- ऐसे शब्द जो मूल रुप से व्यक्तिवाचक संज्ञा होते है लेकिन उस वाक्य में विशेषण का कार्य कर रहे होते है , उन्हें व्यक्तिवाचक विशेषण कहते है ।

व्यक्तिवाचक विशेषण मूलतः संज्ञा शब्द होते है लेकिन वाक्य में किसी दूसरी संज्ञा की विशेषता बता रहे होते है । जैसे :- बनारसी साड़ी । 

इस वाक्य में बनारसी एक संज्ञा वाचक शब्द है और साड़ी संज्ञा वाचक शब्द की विशेषता बता रहा है अतः इस वाक्य में व्यक्तिवाचक विशेषण है ।

विशेषण शब्द लिस्ट 


बड़ा, काला, लम्बा, दयालु, भारी, सुंदर, कायर, टेढ़ा–मेढ़ा, एक, दो, वीर पुरुष, गोरा, अच्छा, बुरा, मीठा, खट्टा, आदि ।

अंतिम शब्द 


आज हमने इस आर्टिकल में विशेषण किसे कहते हैं ? परिभाषा, भेद, उदाहरण, शब्द लिस्ट इन सभी टॉपिक को विस्तार से व सरल भाषा मे समझने का प्रयास किया है । यदि आपको यह लेख पसंद आया है और इस आर्टिकल से कुछ सीखने को मिला हो तो इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ जरूर साझा करें । और यदि आपको लगता है कि इस आर्टिकल में कोई कमी महसूस होती है तो नीचे हमे comment box में जरूर अवगत कराएं । ताकि हम आपकी जरूर के अनुसार आर्टिकल को बना सके , आपके सुझाव हमेशा आमंत्रित है ।

धन्यवाद !

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ